NATIONAL

अध्ययन में खुलासा, कोरोना के टीके ने भारत में 42 लाख से अधिक लोगो को मौत से बचाया

कोविड-19 के टीके ने 2021 में भारत में 42 लाख से अधिक लोगों की मौत को रोका। द लैंसेट इंफेक्शियस डिजीज जर्नल में पब्लिश हुए एक स्टडी में यह दावा किया गया है। यह संख्या महामारी के दौरान देश में अतिरिक्त मृत्यु दर के अनुमानों पर आधारित है। गणितीय मॉडलिंग अध्ययन में पाया गया कि COVID-19 टीकों ने महामारी के दौरान पूरी दुनिया में 2 करोड़ लोगों की संभावित मौत को रोका। शोधकर्ताओं ने कहा कि टीकाकरण कार्यक्रम के पहले वर्ष में संभावित 314 लाख COVID-19 मौतों में से 198 लाख को दुनिया भर में रोका गया था।

बचाई जा सकती थी 5.99 लाख लोगों की जान

अध्ययन का अनुमान है कि अगर विश्व स्वास्थ्य संगठन के 2021 के अंत तक दो या अधिक खुराक के साथ प्रत्येक देश में 40 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण करने का लक्ष्य पूरा किया गया होता तो और 5,99,300 लोगों की जान बचाई जा सकती थी। अध्ययन में 8 दिसंबर 2020 से 8 दिसंबर, 2021 के बीच रोकी गई मौतों की संख्या का अनुमान लगाया गया।

इंपीरियल कॉलेज लंदन के प्रोफेसर और अध्ययन के मुख्य लेखक ओलिवर वाटसन ने कहा कि भारत के लिए हमारा अनुमान है कि इस अवधि में टीकाकरण से 42,10,000 मौतों को रोका गया। यह हमारा केंद्रीय अनुमान है। इस अनुमान में अनिश्चितता 36,65,000-43,70,000 के बीच है। इस मॉडलिंग अध्ययन से पता चलता है कि भारत में टीकाकरण अभियान ने लाखों लोगों की जान बचाई है।

ओलिवर वाटसन ने कहा कि ये अनुमान COVID-19 महामारी के दौरान भारत में मृत्यु के अनुमानों पर आधारित हैं। इसे हमने द इकोनॉमिस्ट से लिया है। यह WHO द्वारा बताए गए अनुमानों के समान है। द इकोनॉमिस्ट के अनुमान के अनुसार मई 2021 की शुरुआत तक भारत में COVID-19 से 23 लाख लोगों की मृत्यु हुई, जबकि आधिकारिक आंकड़े लगभग 2 लाख थे। डब्ल्यूएचओ ने पिछले महीने अनुमान लगाया था कि भारत में 47 लाख लोगों की मौत कोरोना से हुई। भारत सरकार ने इस दावे का खंडन किया है।

Back to top button
error: Content is protected !!