JHARKHAND

रोजाना सैकडों रोगियों को स्वास्थ्य लाभ देने वाला सदर अस्पताल खुद है बीमार

रिपोर्टर_बजरंगी महतो

जिला अस्पताल उर्फ सदर अस्पताल गिरिडीह नाम सुनकर लगता है कि गरीब गुरबो को स्वास्थ्य लाभ देने वाला बहुत बड़ा और सुसज्जित अस्पताल होगा। आपका सोचना भी लाजमी है मगर अफसोस आप जब सदर अस्पताल गिरिडीह परिसर प्रवेश करेंगे तो आप का सामना होगा चारो तरफ टूटी फूटी नालियाँ, जहां तहां कूड़ा कचरा का ढेर, शौचालय बिना गेट का पूरी तरह से गंदगी का ढेर लगा हुआ, बेड फटा पुराना, पंखे अंग्रेज जमाने के, किसी भी वार्ड में लाइट की समुचित व्यवस्था नहीं।

इन सभी नजारों को देखकर आपको यकीन ही नहीं होगा कि आप सदर अस्पताल गिरिडीह में हैं। आज के समय में सुविधाओं का घोर अभाव के कारण सदर अस्पताल रेफरल अस्पताल बन कर रह गया है। सदर अस्पताल अपनी बदहाली पर लगातार आंसू बहा रही है मगर कोई देखने वाला नही कोई सुननेवाला नही। जख्मी लोगों की सारी उम्मीदें टूट जाती है जब उसके पृष्क्रीपशन में दवाई की जगह चिकित्स्क रेफर टू पीएमसीएच धनबाद या रिम्स रांची लिख कर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेता है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!