JHARKHAND

KU में नया हंगामा : आरोपी शिक्षक को बनाया NAAC से A ग्रेड कॉलेज का प्रोफेसर इंचार्, जाने क्या था आरोप

चाईबासा | पश्चिम सिंहभूम के चाईबासा में स्थित कोल्हान विश्वविद्यालय प्रशासन का नया कारनामा सामने आया है। विश्वविद्यालय ने बगैर स्वीकृत पद के मैथिली के एसोसिएट प्रोफेसर का प्रतिनियोजन NAAC से A ग्रेड प्राप्त महाविद्यालय में कर दिया है। प्रतिनियोजन के आधार पर विवि के जमशेदपुर ब्रांच इंचार्ज डॉ. आरके चौधरी को घाटशिला कॉलेज का प्रोफेसर इंचार्ज बना दिया गया है। शनिवार को इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई। डॉ. आरके चौधरी को नई जिम्मेदारी दिए जाने के साथ ही छात्र संगठनों ने विश्चविद्यालय प्रशासन और आरके चौधरी का जोरो- शोरो से विरोध शुरू कर दिया है। विश्वविद्यालय प्रशासन पर लाभ लेकर पद दिए जाने का आरोप भी लग रहा है।

छात्र संगठनों का आरोप है कि मैथिली के शिक्षक डॉ. आरके चौधरी पहले से विवादों में रहे हैं। ऐसे में उन्हें इतनी अहम जिम्मेदारी कैसे दी गई। वह भी ऐसे कॉलेज में जहां उनके विषय में पद तक नहीं है। डॉ. आरके चौधरी पर एक महिला प्रोफेसर ने अपनी फोटो खींचने का आरोप लगाया था। इसके अलावा डॉ. चौधरी की नियुक्ति को लेकर भी विवि में बड़ा विवाद हुआ था। पहले मामले की जांच में जहां प्रमाण नहीं मिलने के कारण आरोप सिद्ध नहीं हुए वहीं दूसरे मामले में विश्वविद्यालय प्रशासन ने जांच नहीं कराई।

दरअसल जमशेदपुर के करनडीह स्थित एलबीएसएम कॉलेज में पदस्थापना के दौरान डॉ. चौधरी पर वर्ष 2018 में महिला प्रोफेसर की ओर से लिखित रूप से गंभीर आरोप लगाए गए थे। विवि ने इस मामले में अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें मुख्यालय अटैच किया था। इसके बाद वह दोबारा चाईबासा से जमशेदपुर आ गए। उन्हें पहले एबीएम कॉलेज में पदस्थापित किया गया। इसके बाद विवि के ब्रांच ऑफिस का इंचार्ज बनाया गया। अब प्रभारी प्राचार्य ( प्रोफेसर इंचार्ज) के रूप में नई जिम्मेदारी दी गई है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!