CHATRAJHARKHAND

माननीय केंद्रीय राज्य मंत्री, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार, कुमारी प्रतिमा भौमिक ने चतरा जिला का किया दौरा

चतरा जिला ब्यूरो सुजेक सिन्हा

चतरा / आकांक्षी जिला परियोजना को लेकर उपायुक्त समेत अन्य वरीय पदाधिकारियों संग मंत्री ने समीक्षा बैठक कर दिए आवश्यक निर्देश। वहीं मंत्री ने सदर अस्पताल चतरा पहुंच एसएनसीयू, कुपोषण उपचार केंद्र समेत अन्य केद्रों में उपलब्ध व्यवस्थाओं का लिया जायजा, सभी वरीय अधिकारी एवं चिकित्सक रहे मौके पर मौजूद। माननीय केंद्रीय राज्य मंत्री, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार, कुमारी प्रतिमा भौमिक ने आज चतरा जिला का दौरा किया। परिषदन भवन चतरा पहुँचने पर उपायुक्त अंजली यादव, पुलिस अधीक्षक राकेश रंजन, उप विकास आयुक्त उत्कर्ष गुप्ता समेत अनुमंडल पदाधिकारी चतरा मुमताज अंसारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अविनाश कुमार द्वारा पुष्प गुच्छ भेंट कर अतिथियों का स्वागत किया गया। जिसके पश्चात आकांक्षी जिला परियोजना को लेकर आहूत बैठक को लेकर मंत्री समेत अन्य सभी पदाधिकारी समाहरणालय चतरा के लिए रवाना हुए।

समाहरणालय चतरा के सभा कक्ष में आयोजित आकांक्षी जिला परियोजना की बैठक से पूर्व उपायुक्त ने माननीय मंत्री को शॉल भेंट कर उनका अभिवादन किया, वहीं उप विकास आयुक्त ने भी माननीय मंत्री के सचिव डॉ मिलिंद रामटकेके को भी उप विकास आयुक्त द्वारा शॉल भेंट किया गया। बैठक में मुख्य रूप से आयोजित आकांक्षी जिला परियोजना को लेकर ANC indicators, जिले में Anemia की समस्या को दूर करने हेतु किए जा रहे प्रयास, आयरन कढ़ाई का वितरण, एसएनसीयू की स्थापना, निर्माणाधीन टीवी अस्पताल की जानकारी, पीएम केयर फण्ड से मिले सहयोग से बने 3 पीएसए प्लांट, समर अभियान के तहत सभी हाउस होल्ड का सर्वे, राजकुमारी फाउंडेशन के तहत एमटीसी वैन का संचालन, मॉडल आंगनबाड़ी, बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर, मॉडल स्कूल का निर्माण समेत अन्य को लेकर विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। वहीं कोविड के समय बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई हेतु उपलब्ध कराए गए स्मार्टफोन एवं टैब से भी मंत्री महोदया को अवगत कराया गया।

बैठक में उपायुक्त ने कहा जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र के रूप में तैयार करने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं शिक्षा के क्षेत्र में मॉडल स्कूल को लेकर भी कार्य किए जा रहे है। बैठक में उपायुक्त ने बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर की भी जानकारी दिया। मंत्री ने पीएम किसान के लाभुकों के बारे में भी जानकारी लिया एवं कई आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने Jslps से कुल एसएजी की संख्या, पशु सखी, फाइनेंसियल इनक्लूजन की जानकारी, स्किल डेवलपमेंट, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत केंद्रों की संख्या की जानकारी लेते हुए आवश्यक निर्देश दिए। वहीं स्किल के आधार पर जिले में उपलब्ध डिमांड एवं सप्लाई के आधार पर प्रशिक्षित युवाओं को लोकल स्तर पर हीं रोजगार मुहैया कराने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त ने कहा कि एडवेंचर टूरिज्म पर भी जिले में कार्य किए जा रहे है। वहीं हाई मास लाइट इंस्टॉल, लाइब्रेरी का अधिष्ठापन किया जा रहा है। बैठक में मंत्री ने कहा कि वैसे बच्चे जो जन्म से ही सुन नही पाते उनके ट्रांसप्लांट के लिए 4 लाख की सहायता राशि भारत सरकार द्वारा दिए जाने का प्रावधान है। संबंधित अधिकारी इसके तहत योग्य लाभुकों को लाभ दिलाने की भी दिशा में कार्य करें।आगे उन्होंने कहा कि झारखंड में अपार संभावना है, यहां किसी भी चीज की कोई कमी नही। उन्होंने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा की धरती पर आने का उन्हें अवसर मिला है, इन उनके लिए सौभाग्य की बात है।

बैठक में उन्होंने कम खर्च में प्रोडक्टिविटी कैसे बढ़ाने पर जोर देते हुए किसानों को बीज आदि मुहैया कराने का निर्देश दिया। वही प्राथमिकता के आधार पर दिव्यांग को यूडीआईडी कार्ड उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।साथ हीं केंद्र सरकार के कई महत्वपूर्ण योजनाओं से भी अवगत कराया एवं योजनाओं का लाभ लाभुकों को दिलाने का निर्देश दिया। बैठक के अंत में धन्यवाद ज्ञापन करते हुए उपायुक्त ने मंत्री महोदया का चतरा जिला आगमन पर आभार व्यक्त करते हुए उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। वहीं उप विकास आयुक्त द्वारा भी मंत्री के निजी सचिव को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। बैठक के पश्चात मंत्री ने सदर अस्पताल चतरा पहुंच एसएनसीयू, कुपोषण उपचार केंद्र समेत अन्य केद्रों एवं वार्डो में उपलब्ध व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

साथ हीं कई मरीजों से भी मुलाकात कर उन्हें मिल रही सुंविधाओ कि जानकारी लिया एवं कई आवश्यक निर्देश दिए। इस दौरान उपायुक्त, उप विकास आयुक्त, सिविल सर्जन संग अन्य वरीय अधिकारी, चिकित्सक एवं कर्मी मौजूद थे। बैठक में मुख्य रूप से उप विकास आयुक्त, निदेशक डीआरडीए, सिविल सर्जन चतरा, जिला योजना पदाधिकारी, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, जिला अग्रणी प्रबंधक, जिला पशुपालन पदाधिकारी, जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल/ एनआरईपी, भवन निर्माण निगम, सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा, जिला जन संपर्क पदाधिकारी, डीपीएम जेएसएलपीएस, एस्पिरेसनल डिस्ट्रिक्ट फेलो, डीएमएफटी पीएमयू समेत अन्य संबंधित मौजूद थें।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!