Month: April 2022

  • झारखंड : गिरिडीह में अवैध खदान के दौरान पहाड़ का एक हिस्सा मजदूरों के उपर गिरने से मौत

    झारखंड में अवैध खनन में दुर्घटना से मजदूरों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। गिरिडीह जिले के गावां थाना क्षेत्र के सांख पंचायत स्थित मुड़गड़वा जंगल में वनभूमि पर संचालित एक अवैध माइका खदान में मिट्टी धंसने से वहां काम कर रहे दो मजदूर की मौत हो गई। वहीं घटना में एक नाबालिग बच्ची समेत चार काम कर रहे मजदूर बुरी तरह घायल हो गए।

    पहाड़ का एक हिस्सा मजदूरों के उपर गिर गया

    बताया जाता है कि मुड़गड़वा जंगल में वनभूमि के एक बड़े भू-भाग पर नावाडीह के तीन लोग वर्षों से माइका का अवैध उत्खनन करवा रहे थे। सोमवार को भी वहां जेसीबी से खुदाई कर मजदूरों के द्वारा माइका निकलवाने का काम चालू था। तकरीबन 50 से 60 की संख्या में वहां मजदूर काम कर रहे थे। मजदूर माइका (ढ़िबरा) निकाल रहे थे व बगल में ही मजदूरों के लिए जगह बनाने के लिए जेसीबी मशीन से पहाड़ी को काटा जा रहा था। इस दरम्यान अचानक पहाड़ का एक हिस्सा मजदूरों के उपर गिर गया। इस घटना में वहां काम कर रहे छह लोग दब गए। आनन-फानन में दबे मजदूरों को निकाला गया। लेकिन तब तक 35 वर्षीय सुकर हांसदा और 30 वर्षीय बुधन हांसदा की मौत हो गई थी। इसके अलावा एक महिला समेत चार लोग घायल हो गए।

  • डालटनगंज : एटीवीएम से अनारक्षित टिकटों की बिक्री शुरू, स्टेशन पर अब नहीं लगनी होगी लम्बी कतार

    डालटनगंज रेलवे स्टेशन से प्रतिदिन यात्रा करने वाले से तीन से चार हजार यात्रियों को अब अनारक्षित टिकट खरीदने के लिए लंबी कतारों में नहीं लगना पड़ेगा। रेलवे ने ऐसे यात्रियों की सुविधा के लिए तीन आटोमेटिक टिकट वेडिंग मशीन स्थापित कर दिए हैं। अब यात्री यहां से प्लेटफार्म टिकट सहित अपने गंत्वय स्थान के टिकट बिल्कुल आसानी से खरीद सकता है।

    स्टेशन पर टिकट वेडिंग मशीन का शुभारंभ

    रविवार को सीटीआइ विकास कुमार ने अपने सहयोगियों के साथ टिकट वेडिंग मशीन का उदघाटन किया। बताया कि अभी दो मशीन पूछताछ काउंटर के सामन और एक मशीन टिकट बिक्री केंद्र परिसर में स्थापित की गई है। इसमें कोई भी यात्री स्मार्ट कार्ड या यूपीआइ के बार कोड की मदद से टिकट खरीद सकता है। यहां से खरीदे गए टिकट काउंटर से तीन प्रतिशत कम मूल्य पर उपलब्ध होंगे।

    50 रुपये में खरीद सकते हैं यहां कार्ड

    यात्री बुकिंग काउंटर से 50 रुपये भुगतान कर स्मार्ट कार्ड खरीद सकते हैं। बाद में इसे रिचार्ज कराने की भी सुविधा है। बता दि कि डालटनगंज रेलवे स्टेशन के बुकिंग काउंटर से प्रतिदिन औसतन 3500 अनारक्षित टिकटों की बिक्री की जाती है। इससे काउंटर पर लंबी कतारों से यात्रियों का ट्रेन छूट जाने का डर रहता था।

  • धनबाद : मुकेश पंडित हत्याकांड का हुआ खुलासा, एसएसपी ने कहा हनी ट्रैपिंग के शिकार हुए मुकेश पंडित

    धनबाद के दामोदरपुर के रहने वाले चाऊमीन व्यवसाई की गोली मार के हत्या का मामला सामने आया है। धनबाद के वरीय पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह जानकारी दी है की हनी ट्रैप के शिकार हुए मुकेश पंडित एसपी ने कहा कि मुकेश पंडित के यहां उज्जवल शर्मा काम करते थे। उसी दौरान मुकेश पंडित की पत्नी से उज्जवल शर्मा की नजदीकियां बढ़ने लगी थी।

    फिर उज्जवल शर्मा ने फेक महिला के नाम से फेसबुक अकाउंट बनाकर मुकेश पंडित से लड़की बनकर बात करता था फिर जब मुकेश पंडित ने फेसबुक पर मिलने को कहा तो 26 मार्च कि सुबह लड़की बनकर उज्जवल शर्मा मुकेश पंडित से मिलने आए उसी दौरान उज्जवल शर्मा ने मुकेश पंडित को गोली मार दी वही इस कांड में मुकेश पंडित की पत्नी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

     

  • धनबाद : मदनपुर तथा पालारपुर दोनो गांव के बीच तनाव उत्पन्न करने का प्रयास

    धनबाद। निरसा थाना सह एम पी एल ओपी क्षेत्र अंतर्गत पालारपुर में पिछले तीन चार दिन से कालीपुजा के उपलक्ष में चल रही मेले में बीती रात मदनपुर गांव के दूसरे संप्रदाय के कुछ असामाजिक तत्वों के द्वारा मेले में घुस कर महिलाओं से छेरखानी करते हुए शांति भंग करके दोनो गांव के बीच तनाव उत्पन्न करने की प्रयास किया गया तभी गांव वालो ने उन्हें धर दबोचा एवं अपनी बुद्धिमानी की प्रमाण देते हुए उन्हें प्रशासन के हवाले कर दिए।

    उसी शिलशिले में रविवार की दोपोहर को पलारपुर गांव में समाज के द्वारा एक बैठक रखा गया था जहा पे निरसा विधायक अपर्णा सेनगुप्ता, झामुमो नेता अशोक मंडल,निरसा एसडीपीओ श्री पीतांबर सिंह खेरवार, एमपीएल ओपी प्रभारी गिलेन रजवार,इंस्पेक्टर नयनसूक डोडेल,उपस्थित रहे।जहा पे शुरू से ही विधायक श्रीमति सेनगुप्ता एवं ग्रामीणों ने दोषियों पर कानूनी कारवाई करने की मांग कर रही थी।वही दोनो पंचायत के मुखिया मामला को आपस में सलटने की प्रयास में लगे थे। लेकिन बैठक में उपस्थित ग्रामीण तथा सर्वसम्मति से दोषीओ पर कानूनी करवाई करने का निर्णय लिया गया।मौके पर उपस्थित निरसा एसडीपीओ ने ग्रामीणों को दोषीओ के खिलाप लिखित शिकायत देने को कहा एवं दोषीओ पर कानूनी करवाई करने की अश्वासन दिए।वही उन्हो ने दोनो गांव के बीच फिर बैठक करने की भी बात कही ताकि भविष्य में इस तरह की घटना फिर न घटे।

  • महाभारत के काल से ही सरहुल पर्व में सखुआ के पेड़ की करते है पूजा, जानें क्या है कहानी

    रांची: सरहुल आदिवासियों की परंपरा, संस्कृति, रहन-सहन से जुड़ा हुआ और काफी प्रचलित त्यौहार है। इस समाज के लोग हर शुभ काम की शुरुआत सरहुल पर्व के बाद हीकरते हैं. चाहे वो खेती बारी का काम हो या फिर कोई अन्य काम. यहां तक कि किसी भी काम में नये पत्ते का उपयोग भी इस पर्व के बाद ही होता है।

    वैसे भी आदिवासी समाज हमेशा से ही प्रकृति का पूजक रहा है, ये पर्व न सिर्फ पर्यावरण को बचाने का त्योहार है. बल्कि संस्कृति, सभ्यता, एकता और अखंडता को भी बनाये रखने का प्रेरणा देता है. इस दिन सरई यानी कि सखुआ पेड़ की खास तौर से पूजा की जाती है.

    महाभारत के युद्ध से जुड़ी है कहानी

    बहुत लोगों को ये नहीं पता है कि सखुआ पेड़ को पूजने के पीछे क्या कहानी है, दरअसल इसकी कहानी महाभारत युद्ध से जुड़ी हुई है. ऐसा माना जाता है कि जब महाभारत युद्ध चल रहा था तो मुंडा जनजातीय लोगों ने कौरव सेना की तरफ से लड़ाई में हिस्सा लिया था

    जिसमें कई जनजातीय योद्धाओं ने अपनी जान गंवाई थी. इसलिए उनके शवों को पहचानने के लिए उनके शरीर को ‘साल के वृक्षों के पत्तों और शाखाओं’ से ढका गया था. लेकिन अश्चर्याजनक बात ये रही कि जो शव सखुआ के पत्ते से ढका था वो शव सड़ने से बच गये जबकि बाकी पत्तों से ढका शव सड़ गये थे. इसके बाद से ही आदिवासियों का विश्वास इस पेड़ के प्रति गहरी हो गयी.

    सरहुल में खिचड़ी खाने और आग जलाने की भी है मान्यता

    पूजा के दिन बैगा पुजार द्वारा घड़े में खिचड़ी पकाया जाता है. इसकी मान्यता है कि घड़े के जिस ओर से खिचड़ी उबलना शुरू करता है. उसी ओर से बरसात का आगमन होता है. इसके बाद जब बैगा पुजार लोग खिचड़ी खाते हैं, तो उनके पीछे की ओर आग जला दिया जाता है. इसका मतलब यह होता है कि अगर बैगा पुजार आग की गर्मी को बर्दाश्त करते हुए शांतिपूर्ण ढंग से खिचड़ी खाते हैं, तो गांव में सुख-शांति रहती है और जहां आग या गर्मी को बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं, तो गांव में मच्छर, बीमारी सहित अन्य प्रकार का कहर बढ़ जाता है. इसलिए सरहुल सरना पूजा आदिवासियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

  • रांची :स्वागत के लिए जुटे बीजेपी-कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में झड़प

    रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर आज रविवार को बीजेपी व कांग्रेस के कार्यकर्ता आपस झगड़ गए. बीजेपी सांसद जयंत सिन्हा और कांग्रेस युवा मोर्चा के अध्यक्ष के रांची एयरपोर्ट पर आगमन को लेकर बीजेपी व कांग्रेस के कार्यकर्ता स्वागत के लिए इकठा हुए थे. तभी नारेबाजी को लेकर बीजेपी व कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में भिड़ंत हो गयी.

    बीजेपी-कांग्रेस कार्यकर्ताओं में झड़प

    झारखंड की राजधानी रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर आज रविवार को कांग्रेस और बीजेपी के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गये. बताया जा रहा है कि बीजेपी से हजारीबाग के सांसद जयंत सिन्हा दिल्ली से झारखंड लौट रहे थे. वे रांची एयरपोर्ट पर पहुंचे थे. उनके स्वागत के लिए बीजेपी के कार्यकर्ता पहुंचे थे. इसी दौरान कांग्रेस युवा मोर्चा के अध्यक्ष भी रांची एयरपोर्ट पहुंचने वाले थे. उनके स्वागत के लिए कांग्रेस कार्यकर्ता एयरपोर्ट पहुंचे थे. इसी दौरान नारेबाजी में बीजेपी व कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गयी. बाद में मामला शांत हुआ.

  • इंस्टीट्यूट ऑफ होमियोपेथ्स के तत्वधान से निशुल्क सिलाई प्रशिक्षण शिविर का किया गया शुभारम्भ

    गिरीडीह। रविवार को उत्क्रमीत मध्य विद्यालय डाबर में द इंस्टीट्यूट ऑफ़ हेमोपैथ के तत्वधान से निशुल्क सिलाई प्रशिक्षण शिविर के शुभारम्भ किया गया। मौके पर गावां ब्लॉक कॉन्डिरेटर पिंटू शर्मा ने कहा कि लोगो ने जो इस संस्था पे विश्वास किया उसी के बदौलत आज संस्था द्वारा सिलाई प्रशिक्षण शिविर लगाया जा रहा है। चेयरमैन अशोक कुमार दास ने कहा कि और भी पंचायत में सिलाई प्रशिक्षण शिविर लगाया जाएगा।साथ में युवा नेता सागर चौधरी ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोगो को इस संस्था से जुड़ना चाहिए जिससे लोगो को इसका लाभ मिल सके।

    सामाज सेवी पवन चौधरी और बुगुन राम , आनंदी यादव चंद्रशेखर शर्मा ने कहा कि संस्था बहुत ही अच्छा काम कर रही है आशा करते हैं कि हर गांव इस संस्था के वजह से विकाश होगा ।समारोह में मौजूद सचिव संजीव कुमार, सुपरवाइजर प्रेम कुमार,नरेश कुमार धनवारब्लॉक कॉन्डिरेटर ब्रह्मदेव शर्मा , जयकिशोर जी , धर्मेंद्र जीगावां प्रखंड के कुछ युवा नेता रोहित राज ,सतीश कुमार, नीतीश कुमार और सेरुआ पंचायत के सभी लोग उपस्थित थे

  • निरसा : छापेमारी के दौरान 50 टन अवैध कोयला जप्त

    निरसा थाना क्षेत्र अंतर्गत मल्लिकडीह स्थित श्री कृष्णा कोल् एंड कोक डिपो में निरसा इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी दिलीप यादव को उच अधिकारी सूचना के आधार पर एक ही सप्ताह के अंदर लगातार दो बार छापेमारी की गयी है । दिन रविवार छापेमारी में भारी मात्रा में अवैध कोयला 50टन समेत मौकाए वारदात से अवैध कोयला लोड हो रहा एक ट्रक व एक साइकिल भी जप्त हुई है। गौरलतब है कि इसी कोल डिपो में निरसा अंचल अधिकारी नितिन शुभम गुप्ता ने एक सप्ताह पहले छापेमारी कर एक ट्रक सहित भारी मात्रा में जप्त कर प्राथमिकी दर्ज कराई थी। लेकिन अवैध कोयला कारोबारियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि लगातार हो रही छापेमारी के बावजूद अवैध कोयला कारोबार रुकने का नाम नहीं ले रही है।

    कोयला तस्करी करने वालो खुलेआम प्रशासन को दे रही है चुनौतियां पिछले कई दिन पूर्व ही इसी डिपो में छापेमारी होने के दो दिन बाद से ही अवैध कोयला की काला धंधा फिर से शुरू कर दी,जहा पे प्रशासन भी चोर पुलिस के इस खेल में अपनी शिकस्त को नही मानते हुए फिर से आज छापेमारी करके अपनी सफलता को हासिल किए।वही छापेमारी के विषय में जानकारी देते हुए निरसा थाना प्रभारी दिलीप यादव ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी की गई है लगातार सूचना मिल रही थी कि जंगलों में बाउंड्री करके अवैध कोयला इकट्ठा किया जा रहा है और गाड़ियों में लोड करवाकर कोयले की तस्करी की जा रही है उसी सूचना के आधार पर आज छापेमारी की गयी है और आगे भी अवैध कारोबार के खिलाफ इस प्रकार की कार्यवाही जारी रहेगी और डिपो संचालक सह ट्रक मालिक एवं ट्रक चालक के नाम मामला दर्ज किया जाएगा।

  • तेनुघाट थर्मल पावर स्टेशन : टीटीपीएस में बेहतर उत्पादन से मिला फिर से इंटेंसिव

    झारखंड सरकार का महत्वपूर्ण लोक उपक्रम ललपनिया स्थित तेनुघाट थर्मल पावर स्टेशन से बीते मार्च माह में लगातार बंपर उत्पादन कर रही है. प्लांट की दोनों यूनिट से कुल 230.43 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है. जिसका प्लांट लोड फैक्टर(पीएलएफ) प्रतिशत 73.74 दर्ज हो रहा है है. इस आंकड़े के आधार पर टीटीपीएस के अधिकारियों और कर्मचारियों को इंसेंटिव मिला है जो 15 प्रतिशत है. खास बात यह है कि अफसरों-कर्मियों को करीब सवा दो साल बाद बीते फरवरी माह में और फिर लगातार दूसरे महीने मार्च माह में इंसेंटिव नसीब हुआ है. बेहतर उत्पादन से प्रबंधन में खुशी है और इससे भी बेहतर उत्पादन की ओर मेहनत के लिये प्रबंधन कृतसंकल्पित है.

    बेहतर उत्पादन से प्रबंधन गदगद

    जानकारी के मुताबिक, यूनिट एक से मार्च माह में अधिकतम 196 मेगावाट तथा यूनिट दो से 186 मेगावाट के लोड पर उत्पादन दर्ज किया गया है. दरअसल, टीटीपीएस के बहुप्रतीक्षित विस्तारीकरण से लेकर वर्तमान यूनिटों के उत्थान सहित कई मायनों में यह आंकड़ा बेहद महत्वपूर्ण है. मार्च माह के उत्पादन से प्रबंधन गदगद है और अधिकारियों व कर्मियों का मनोबल भी हाई है.

    सबसे कम तेल खपत का रिकॉर्ड

    टीटीपीएस से वित्तीय वर्ष 2021-22 में सबसे कम तेल खपत कर रिकॉर्ड कायम किया है. जो 1996 में यूनिट चालू होने से अबतक यानी 26 वर्षों में सबसे कम है. रेगुलेटरी कमीशन द्वारा निर्धारित 1 एमएल/यूनिट के मुकाबले बीते वित्तीय वर्ष टीटीपीएस ने महज .8 एमएल/यूनिट तेल खपत किया है. जो एक सुखद पहलू रहा. बीते वित्तीय वर्ष छाई का उपयोग भी शत-प्रतिशत दर्ज किया गया है. यानी बिजली उत्पादन के बाद छाई डैम में जितनी छाई का उत्सर्जन हुआ, उतना का उठाव किया गया है. यह भी एक रिकॉर्ड है.

    उत्पादन में और बढ़ोत्तरी हो

    टीवीएनएल के एमडी अनिल कुमार शर्मा ने बताया कि फरवरी के बाद मार्च में भी बेहतर उत्पादन के दम पर इंसेंटिव प्राप्त होना परियोजना के विकास की बाबत अच्छे संकेत हैं. टीम वर्क से हम बेहतर उत्पादन का सिलसिला जारी रखेंगे. बशर्ते, कोयले की आपूर्ति सुचारू रहे. इससे उत्पादन में और बढ़ोत्तरी होगी. पिछले 26 वर्षों के मुकाबले तेल की खपत भी सबसे कम हुई है. हमने वित्तीय वर्ष 2021-22 में ऐश यूटिलाइजेशन भी शत-प्रतिशत किया है.

  • ऐसे करे माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा- अर्चना, हो जाएगी हर मनोकामना पूरी

    2 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हो गई है। नवरात्रि के दौरान मां के 9 रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है। नवरात्रि के दूसरे दिन मां के द्वितीय स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा- अर्चना की जाती है। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से व्यक्ति को अपने कार्य में सदैव विजय प्राप्त होता है। मां ब्रह्मचारिणी दुष्टों को सन्मार्ग दिखाने वाली हैं। माता की भक्ति से व्यक्ति में तप की शक्ति, त्याग, सदाचार, संयम और वैराग्य जैसे गुणों में वृद्धि होती है। आइए जानते हैं, मां ब्रह्मचारिणी की पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, आरती, भोग और कथा

    पूजा- विधि

    इस दिन सुबह उठकर जल्दी स्नान कर लें, फिर पूजा के स्थान पर गंगाजल डालकर उसकी शुद्धि कर लें।
    घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
    मां दुर्गा का गंगा जल से अभिषेक करें।
    अब मां दुर्गा को अर्घ्य दें।
    मां को अक्षत, सिन्दूर और लाल पुष्प अर्पित करें, प्रसाद के रूप में फल और मिठाई चढ़ाएं।
    धूप और दीपक जलाकर दुर्गा चालीसा का पाठ करें और फिर मां की आरती करें।
    मां को भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है।

    मां ब्रह्मचारिणी ने राजा हिमालय के घर जन्म लिया था। नारदजी की सलाह पर उन्होंने कठोर तप किया, ताकि वे भगवान शिव को पति स्वरूप में प्राप्त कर सकें। कठोर तप के कारण उनका ब्रह्मचारिणी या तपश्चारिणी नाम पड़ा। भगवान शिव की आराधना के दौरान उन्होंने 1000 वर्ष तक केवल फल-फूल खाए तथा 100 वर्ष तक शाक खाकर जीवित रहीं। कठोर तप से उनका शरीर क्षीण हो गया। उनक तप देखकर सभी देवता, ऋषि-मुनि अत्यंत प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि आपके जैसा तक कोई नहीं कर सकता है। आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगा। भगवान शिव आपको पति स्वरूप में प्राप्त होंगे।

    मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र क्या है

    1 – दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलु| देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ||
    वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।
    जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥
    गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।
    धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥
    परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।
    पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

Back to top button
error: Content is protected !!